मुख पृष्ठ » आयुष पद्धतियाँ » यूनानी » चिकित्साविधान – मुख्य » फर्नको थेरेपी (इलाज-बिल-ग़िज़ा)

फर्नको थेरेपी (इलाज-बिल-ग़िज़ा)

यूनानी चिकित्सा पद्धति में, कुछ बीमारियों के इलाज के लिए भोजन की मात्रा और गुणवत्ता के नियमन पर बहुत जोर दिया जाता है। कई यूनानी विद्वानों ने इस चिकित्सा की गतिशीलता को पुस्तकों के माध्यम से समझाया है जैसे:

  • Maqala Fil Aghziya by Razi
  • Kitab fil Aghzia by Rabban Tabari
  • Kitab Manafe-Il-Aghziya wa Daf-e- Mazarreha by Razi
  • Manafe-ul-Atima wal Ashriba, by Rabban Tabari

न केवल खाद्य पदार्थों में पोषण संबंधी गुण होते हैं, बल्कि वे रोगों के उपचार की भी बड़ी क्षमता दर्शाते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थों को विभिन्न श्रेणियों जैसे मूत्रवर्धक, रेचक और डायफोरेटिक में विभाजित किया जा सकता है। इस प्रकार भोजन तौर-तरीकों का इलाज करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और यूनानी प्रणाली भोजन पर केंद्रित विशिष्ट आहार का प्रशासन करके उसी पर ध्यान केंद्रित करती है। उदाहरण के लिए, अंडे फ्रैक्चर के इलाज और गंजापन को ठीक करने में अत्यधिक प्रभावी साबित होते हैं।

Last updated on जून 5th, 2021 at 01:49 अपराह्न